जिंदगी को खुशहाल कैसे बनाये

जिंदगी को खुशहाल कैसे बनाये

खुशहाल रहना हर व्यक्ति की चाहत होती है। सभी की इच्छा होती है कि उसके परिवार में खुशहाली बनी रहे। ये बहुत मुश्किल काम नहीं है। हमारी थोड़ी सी सतर्कता हमे बहुत सारी बड़ी परेशानियों से बचा सकती है। जानिए वो छोटी छोटी सावधानियां जिन्हे ध्यान में रखकर आप परेशानियों से बच कर अपनी जिंदगी को खुशहाल बना सकते है। खुश रहने के तरीके खुद छोटी छोटी चीजों में तलाश किये जा सकते है। परिस्थिति हमेशा एक समान नहीं होती बदलती रहती है। परिवर्तन संसार का नियम है और ये अटल है। यदि अच्छा समय नहीं रहा तो विश्वास करें बुरा समय भी नहीं रहेगा। ख़ुशी हासिल करने के आपके पास दो विकल्प होते है या तो परिस्थिति के हिसाब से ढल जाइये या दम है तो परिस्थिति को अपने हिसाब से ढाल लीजिए। अधिकतर परेशानियों का कारण आपका व्यवहार , आपका स्वास्थ्य या आर्थिक स्तर होता है। यदि इनके बारे में आप सावधान रहते है तो बहुत सी परेशानियां पैदा ही नहीं होंगी। हर कदम पर आपको सपोर्ट मिलेगा और कोई आपको खुशहाल रहने से नहीं रोक सकता।

कैसे बनाये खुशहाल जिंदगी
  • जो लोग बहुत खुश दिखाई देते है जरुरी नहीं उनकी जिंदगी में कोई तकलीफ नहीं हो। दरअसल वो लोग तकलीफों के साथ भी खुश रहना सीख लेते है। यदि कोशिश करें तो खुश रहना आप भी सीख सकते है।

  • अपने व्यवहार में थोड़ी सावधानी रखेंगे तो परेशानी से बचेंगे और खुशहाली मिलेगी।

  • बिना विचार किये बोलना नहीं चाहिए और जल्दबाजी में कोई काम नहीं करना चाहिए। विचार करके बोलना बुद्धिमानी है। बोलने के बाद विचार करना बेकार है।

वक्षस्थल की सुन्दरता निखारें
  • गुस्सा करना , अधिक चिन्ता करना या बहुत दुखी होना किसी भी समस्या का समाधान नहीं है। इससे स्थिति सुधरेगी तो नहीं , मगर बिगड़ जरूर सकती है। ये आपका स्वास्थ्य और सौंदर्य भी छीन लेंगे।

  • ख़ुशी बाँटने से बढ़ती है। अकेले ख़ुशी नहीं मना सकते। खुशियाँ बाँटिये और खुद भी खुश रहिये।

  • किसी को दुःखी करके आप खुश नहीं हो सकते इसलिए कोशिश करें किसी को दुःख न पहुँचे।

  • यदि आप किसी बात को गुप्त रखना चाहते है तो उसे आपको अपने खास लोगों यानि दोस्तों और विश्वासपात्र करीबी से भी गुप्त रखना होगा। दोस्त , विश्वास पात्र और प्रिय लोग कल बदल भी सकते है। अतः सतर्क रहें।

  • किसी को भी अपमानित ना करें ना ही बहुत कड़वे शब्द कहें। सामने वाला कभी नहीं भूलता। आज नहीं तो कल अपमान और कड़वे शब्दों का मोल आपको चुकाना पड़ सकता है। आपने भी सुना होगा तलवार का घाव भर जाता है मगर शब्दों का दिल पर लगा घाव कभी नहीं भरता।

  • जितनी चादर हो उतने ही पैर फ़ैलाने चाहिये। यानि कमाई से अधिक खर्च ना करें। शरीर पर ताकत से अधिक बोझ ना डालें।अपने से अधिक बलवान से पंगा ना लें। क्षमता से अधिक भोग विलास ना करें। इन सभी से सिवा परेशानी के कुछ हासिल नहीं होगा।

  • बिना पूछे राय ना दें। बड़ों का तिरस्कार ना करें।

  • अति ( अधिकता ) किसी भी तरह की हो हमेशा नुकसान देह होती है। खर्चे की अति , एक्सरसाइज की अति , मैथुन की अति , खाने की अति , हंसी ठिठोली की अति , जागने की अति , टीवी देखने की अति , सोने की अति आदि से बचना ही ठीक है।

  • अन्जान लोगों पर बहुत विश्वास न करें। ख़राब संगति से बचें। पहचाने बिना दोस्ती ना करें।

  • हमारा स्वास्थ्य हमारे हाथों में होता है। यदि कोई गम्भीर बीमारी नहीं है तो इन बातों का ध्यान रखने से स्वस्थ और खुशहाल रहेंगे :

  • सुबह उठने का , शौच का , नहाने का ,भोजन का और सोने का एक समय निश्चित करें। निश्चित समय ये काम करने से आप शरीर को आपके हिसाब से चलने पर मजबूर कर देंगे। शरीर हमेशा स्वस्थ रहेगा।

  • सुबह लगभग 45 मिनट की ब्रिस्क वॉक ( तेज चलना ) करें। खाना खूब चबा चबा कर खायें। इससे सैकड़ो तरह की बीमारियों से बचाव हो जाता है।

डार्क सर्कल्स कम करने के प्राकृतिक उपाय
  • गर्म पानी से चेहरा , आँखे और गुदा कभी नहीं धोने चाहिए। हानिकारक होता है।

  • चाहे कितना भी स्वादिष्ट या गुणकारी खाना हो अपनी पाचन शक्ति से अधिक ना खायें। बादाम पिस्ता जैसी गुणकारी चीज भी ज्यादा खाने पर नुकसान ही करती है।

  • भूख लगने पर कुछ न कुछ जरूर खाएँ। बिना भूख के ना खाएँ। पानी खूब पिएँ।

  • सप्ताह में एक व्रत या उपवास अवश्य करें। शारीरिक व मानसिक लाभ होगा।

  • सोते समय आपका सिर उत्तर दिशा में नहीं होना चाहिए। उत्तर दिशा में सिर रखकर सोने से दिल और दिमाग पर बुरा असर पड़ता है।

  • भोजन के तुरंत बाद , बीमारी में , सुबह , संध्या काल में , कड़े परिश्रम के बाद ,उपवास में सेक्स करना नुकसान देह होता है।

  • शराब , सिगरेट , गुटका आदि का सेवन और यौन विषयक सामग्री का क्षणिक सुख आपको गंभीर परेशानी में डालते है। इनका बड़ा दुखदायी परिणाम मिलता है। किसी प्रकार का नशा ना करें और इनसे दूर रहें। सीखें नशा कैसे छोडें।

  • आजकल हार्ट प्रॉब्लम , ब्लड प्रेशर की समस्या और डायबिटीज किसी भी उम्र में हो जाती है। इसलिए अपना ब्लड प्रेशर , कोलेस्ट्रॉल और शुगर समय समय पर चेक कराते रहें। ये तीनो साइलेंट किलर कहलाते है। इनके होने का पता ही नहीं चलता और एकदम से घातक हो सकते है।

  • शाकाहारी लोगों को दो गिलास दूध रोजाना जरूर पीना चाहिए। कई तरह के आवश्यक तत्व जो सब्जी रोटी से नहीं मिल पाते वो दूध से ही मिलते है। दूध नहीं पी सकते हो तो दही या छाछ रोजाना लेनी चाहिए।

  • भोजन के साथ थोड़ा सा गुड़ जरूर खाना चाहिये। इससे हीमोग्लोबिन सही रहता है। गुड़ पाचन में भी मदद करता है।

  • एक कहावत है की एक रुपया बचाना एक रुपया कमाने के बराबर होता है। अतः बचत अवश्य करनी चाहिये। ये मुश्किल समय में बहुत काम आती है। अपनी कमाई का लगभग दसवां हिस्सा बचत में रखना चाहिए ।

  • जहाँ तक हो सके कर्ज नहीं लेना चाहिए। लेना ही पड़े तो जल्द चुकता कर देना चाहिए ।

  • अपनी बचत को अपनी सुविधा के अनुसार निवेश करना चाहिये। फिक्स्ड डिपाजिट , म्युचुअल फण्ड , पोस्ट ऑफिस आदि में निवेश किया जा सकता है।

  • मेडिकल इंशोरेंस करवाना चाहिए क्योकि स्वास्थ्य सेवाएँ बहुत महंगी है। ये अचानक आए आर्थिक भार से बचने का अच्छा साधन है।

 
disclamer of kdl
Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *