स्वप्नदोष रोकने के उपाय…

स्वप्नदोष रोकने के उपाय…

रात में सोते वक्त लड़कों का खुद-ब-खुद वीर्य निकल जाना स्वपनदोष कहलाता है. किशोरावस्था और युवावस्था में लडकों को स्वपनदोष होना एक साधारण सी बात है. अगर आपको 1 माह में 1-2 बार स्वप्नदोष होता है, तो डरने की जरूरत नहीं है. यह एक सामान्य बात है. क्योंकि पुरुष के शरीर में हमेशा वीर्य बनता रहता है, इसलिए एक सीमा के बाद वीर्य खुद-ब-खुद निकल जाता है. शादी के बाद स्वप्नदोष पूरी तरह से खत्म हो जाता है. और यह याद रखें कि यह कोई बीमारी नहीं है.
स्वप्नदोष रोकने के कुछ कारगर उपाय

kamdev

  • खुद को व्यस्त रखें, और अपने विचारों और मन में शुद्धता लाएँ. आपके दिमाग या मन में अश्लील या कामुक बातें नहीं होंगी, तो स्वप्नदोष भी नहीं होगा.क्योंकि इससे आपका दिमाग कामुक विचारों से मुक्त नहीं हो पायेगा.
  • नहाने के लिए ठंडे पानी का उपयोग करें, गर्म पानी से न नहाएँ
  • सोने से पहले रात में गर्म दूध के साथ कामधेनु कामदेव चूर्ण व कौंच बीज पाडडर इन दोनो को मिलाकर 20 से 25 ग्राम की मात्रा में नियमित रुप से सेवन करें। यह एक बहुत ही कारगर उपाय हैं। अगर समस्या ज्यादा बडी हैं, तो आप इसका प्रयोग दिन के भोजन के बाद भी कर सकते हैं।
  • कामदेव चूर्ण के सेवन से आपकी स्वपनदोष की समस्या तो दूर होगी ही और साथ मे ये आपके शरीर की सुन्दरता को भी बढाता हैं व शरीर को मजबुत बनाता हैं।
  • सोने से 2-3 घंटा पहले खाना खा लें. और सुपाच्य भोजन हीं करें.
  • स्नान करने से 1 घण्टा पुर्व कामधेनु श्रीगोपाल तेल की मालिष अपने प्रियअंग पर 5 मिनिट तक करे । इस तेल की मालिष आप रात को सोने से पूर्व भी करे!
  • हर दिन सूर्योदय से पहले उठें व्यायाम योग एवं रोज पूजा करें धार्मिक चीजों की ओर अपनी रूचि बढ़ाएं
  • रात में सोने से पहले पेशाब जरुर करें और रात में पानी कम पिएँ
66
  • रात में सोने से पहले अंडरवियर खोल लें और स्वूमत या किसी अन्य तरह का ढीला कपड़ा पहनकर सोएँ
  • सुबह-सुबह खाली पैर घास में सेर करें
अन्य किसी तरह का प्रयोग करने की जरूरत नहीं है न हीं किसी नीम-हकीम के झांसे में आने की जरूरत है. स्वप्नदोष कोई बीमारी नहीं है, यह बात आपको अच्छे से समझ लेनी चाहिए. और न हीं यह बचपन की कोई भूल है.

disclamer of kdl
Share this

4 thoughts on “स्वप्नदोष रोकने के उपाय…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *