आयुर्वेद और प्राक्रतिक जड़ी बूटीयो से बढ़ाये स्तम्भन एवं यौन शक्ति

आयुर्वेद और प्राक्रतिक जड़ी बूटीयो से बढ़ाये स्तम्भन एवं यौन शक्ति

असंयमित खान-पान या शरीर में पोषक तत्वों के कारण या अन्य गलत आदतों से पुरुषों को दुर्बलता या कमजोरी की परेशानी होने लगती है। इस भाग दौड़ और तनाव भरी ज़िन्दगी तथा अनियमति और अनहेल्दी भोजन के कारण पुरुषों में कमजोरी की समस्या आजकल आम है। नपुंसकता, स्वप्नदोष, धातु दोष आदि ऐसी समस्याएं हैं जो वैवाहिक जीवन को बहुत अधिक प्रभावित करती हैं। पुरुष का यौन स्वास्थ्य यौन संचारित बीमारियों को नियंत्रित करने और यौन शक्ति बढ़ाने के लिए प्राक्रतिक जड़ी बूटी के इस्तेमाल के मामले बहुत अधिक है। आयुर्वेदिक और प्राक्रतिक जड़ी बूटी आपको इन समस्याओं का इलाज करने में सहायता करती हैं, और सेक्स के दौरान बेहतर प्रदर्शन करने में आपकी सहायता करती हैं। कामेच्छा के साथ, आप बेहतर सेक्स जीवन प्राप्त कर सकते हैं।आयुर्वेद में इस्तेमाल की जाने वाली ये दवाएं सभी प्राकृतिक जड़ी-बूटियाँ हैं, इस प्रकार वे आपके लिए सुरक्षित हैं, इसमें कोई दुष्प्रभाव नहीं है। आयुर्वेदिक चिकित्सा सदियों से सभी के लिए सबसे अच्छी साबित हुई है यह समस्या की जड़ पर हमला करता है यह पूरी तरह से आपकी स्थिति से उबरने में आपकी मदद करता है।
अश्वगंधा- अश्वगंधा यौन समस्याओं का इलाज करने के लिए एक महान जड़ी बूटी है। यह आपके तनाव के स्तर को भी नियंत्रित करता है और अपने तंत्रिका तंत्र को सुधारता है और अपने तंत्रिका तंत्र के पूरे कामकाज को बेहतर यौन जीवन प्रदान करता है। अश्वगंधा एक कामोत्तेजक है। अश्वगंधा का चूर्ण को आधा चम्मच मात्रा में दूध के साथ सुबह और शाम लेना चाहिए। यह मिश्रण वीर्य को ताकतवर बनाकर शीघ्रपतन की समस्या से छुटकारा दिलाता है।
सेब- एक सेब में जितनी हो सके उतनी लौंग लगा दीजिए। इसी तरह का एक अच्छा सा बड़े आकार का नींबू ले लीजिए। इसमें जितनी ज्यादा से ज्यादा हो सके, लौंग लगाकर दोनों फलों को एक सप्ताह तक किसी बर्तन में ढककर रख दीजिए। एक सप्ताह बाद दोनों फलों में से लौंग निकालकर अलग-अलग बोतल में भरकर रख लें। पहले दिन नींबू वाले दो लौंग को बारीक कूटकर बकरी के दूध के साथ सेवन करें। इस तरह से बदल-बदलकर 40दिनों तक 2-2 लौंग खाएं। यह एक तरह से सेक्स क्षमता को बढ़ाने वाला एक बहुत ही सरल उपाय है।
फीमेल हेल्थ केयर के लिए महत्वपूर्ण टिप्स ( Important tips for Female Health Care )
छुहारे- चार-पांच छुहारे, दो-तीन काजू और दो बादाम को 300 ग्राम दूध में खूब अच्छी तरह से उबालकर तथा पकाकर दो चम्मच मिश्री मिलाकर रोजाना रात को सोते समय लेना चाहिए। इससे यौन इच्छा और काम करने की शक्ति बढ़ती है।
कौंच का बीज- कोंच एक उत्कृष्ट जड़ी बूटी है जिसका इस्तेमाल पहले ही से शीघ्रपतन के इलाज में किया जाता है। कोंच का उपभोग, या कोंच युक्त हर्बल दवाइयां आपके वीर्य की चिपचिपाहट में सुधार के लिए बेहद मदद कर सकती हैं। इससे आपके शुक्राणु मजबूत होते हैं और लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं। कोंच को उन पुरुषों को आदर्श रूप से दीया जाता है जिनके वीर्य में पानी और पतलापान अधिक होता है या उन पुरुष को दिया जाता है जो समय से पहले स्खलन का सामना करते हैं, जिससे वो अपने सहयोगियों को संतुष्ट नहीं कर पाते हैं। हल्के गर्म दूध में आधा चम्मच चूर्ण मिलाकर रोजाना इसको पीना चाहिए। इसको पीने से वीर्य गाढ़ा हो जाता है और नामर्दी दूर होती है।
प्याज- आधा चम्मच सफेद प्याज का रस, आधा चम्मच शहद और आधा चम्मच मिश्री के चूर्ण को मिलाकर सुबह और शाम सेवन करें। यह मिश्रण वीर्यपतन को दूर करने के लिए काफी उपयोगी रहता है।सफेद प्याज के रस को अदरक के रस के साथ मिलाकर शुद्ध शहद तथा देशी घी पांच-पांच ग्राम की मात्रा में लेकर एक साथ मिलाकर सुबह नियम से एक माह तक सेवन करें और लाभ देखें इससे यौन क्षमता में अभूतपूर्व वृद्धि देखी जाती है।
शीघ्रपतन (प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन) रोकने के घरेलू उपाय
शतावरी – शतावरी का कई सालों तक यौन क्षमता और जीवन शक्ति बढ़ाने के लिए उपयोग किया गया है। यदि कोई व्यक्ति इसे नियमित आधार पर लेता है, तो वह लंबे समय तक स्तंभन के साथ ही सेक्स के उत्तेजना के साथ बेहतर परिणाम प्राप्त कर सकता है। अब तक, कई पुरुषों ने पहले से ही विविध यौन समस्याओं और डिसफंक्शन के सिकार होने की रिपोर्ट दी है, शोधकर्ता भी इन दोषों को स्थायी रूप से दूर करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने पाया है कि शतावरी उन स्तंभन दोष के सिकार लोगो को बहुत ही कम समय में सकारात्मक रूप से पोजिटिव रिजल्ट देता हैं।
सफेद मूसली – सालम मिश्री, तालमखाना, सफेद मूसली, कौंच के बीज, गोखरू तथा ईसबगोल- इन सबको समान मात्रा में मिलाकर बारीक चूर्ण बना लें। इस एक चम्मच चूर्ण में मिश्री मिलाकर सुबह-शाम दूध के साथ पीना चाहिए। यह वीर्य को ताकतवर बनाता है तथा सेक्स शक्ति में अधिकता लाता है।
गोखरू – सूखा आंवला, गोखरू, कौंच के बीज, सफेद मूसली और गुडुची सत्व- इन पांचो पदार्थों को समान मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें। एक चम्मच देशी घी और एक चम्मच मिश्री में एक चम्मच चूर्ण मिलाकर रात को सोते समय इस मिश्रण को लें। इसके बाद एक गिलास गर्म दूध पी लें। इस चूर्ण से सेक्स कार्य में अत्यंत शक्ति आती है।
जोड़ों के दर्द, आर्थराइटिस का असरकारक उपचार
तालमखाना – तालमखाना वीर्य विसंगतियों के उपचार के लिए इस्तेमाल एक प्रसिद्ध जड़ी बूटी है। यदि आप अपने शुक्राणु की गुणवत्ता से संबंधित समस्याओं का सामना कर रहे हैं, तो तालमखाना आपका उत्तर है। यदि आप समय से पहले स्खलन की समस्याओं का सामना कर रहे हैं तो तालमखाना आपका उत्तर है। तालमखाना आपके रक्त के संचरण को अपने जननांगों में सुधार करने के लिए जाना जाता है। उचित रक्त परिसंचरण का मतलब बेहतर सेक्स प्रदर्शन है इस प्रकार, आप एक मजबूत यौन शक्ति प्राप्त करेते है तालमखाना यौन शक्ति बढ़ाने के लिए घरलू उपाय के रूप में जाना जाता है
अजवायन- 100 ग्राम अजवायन को सफेद प्याज के रस में भिगोकर सुखा लें। सूखने के बाद उसे फिर से प्याज के रस में गीला करके सुखा लें। इस तरह से तीन बार करें। उसके बाद इसे कूटकर किसी बोतल में भरकर रख लें। आधा चम्मच इस चूर्ण को एक चम्मच पिसी हुई मिश्री के साथ मिलाकर खा जाएं। फिर ऊपर से हल्का गर्म दूध पी लें। करीब-करीब एक महीने तक इस मिश्रण का उपयोग करें। इस दौरान संभोग बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। यह सेक्स क्षमता को बढ़ाने वाला सबसे अच्छा उपाय है.
डार्क सर्कल्स कम करने के प्राकृतिक उपाय
त्रिफला – एक चम्मच त्रिफला के चूर्ण को रात को सोते समय 5 मुनक्कों के साथ लेना चाहिए तथा ऊपर से ठंडा पानी पिएं। यह चूर्ण पेट के सभी प्रकार के रोग, स्वप्नदोष तथा वीर्य का शीघ्र गिरना आदि रोगों को दूर करके शरीर को मजबूती प्रदान करता है।
स्किन पर झुर्रियों से बचने के लिए महत्वपूर्ण आहार ( Food For Skin Wrinkles )
अशोक वृक्ष के औषधीय फायदे

disclamer of kdl
Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *